Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ram navami kyu manaya jata hai | Happy Ram Navami 2021 Wishes Images Status Quotes | रामनवमी क्यों मनाई जाती है

ram navami kyu manaya jata hai Happy Ram Navami 2021 Wishes Images Status Quotes रामनवमी क्यों मनाई जाती है
ram navami kyu manaya jata hai Happy Ram Navami 2021 Wishes Images Status Quotes रामनवमी क्यों मनाई जाती है

राम नवमी भारत में  हर घर में  मनाया  पर  सब कोई ये नहीं जानते  की  राम नवमी क्यूँ मनाया जाता है?(ram navami kyu manaya jata hai) यदि नहीं तब आज का यह पोस्ट आपके लिए पढना काफी जरुरी होगा. क्यूँ? इसका जवाब आपको पोस्ट के अंत तक जरुर से मालूम पड़ जायेगा

जानिए अरुण गोविल के जीवन से जुड़े कुछ अनसुने किस्से

आज देशभर में राम नवमी (Ram Navmi) मनाई जा रही है. इसी के साथ 18 मार्च से शुरू हुई चैत्र नवरात्रि का भी आज आखिरी दिन है. आज ही के दिन भगवान राम का जन्म हुआ था. नवरात्रि और राम नवमी दोनों ही हिंदुओं के प्रमुख त्यौहार हैं. आज के दिन हर घर में मां दुर्गा और भगवान राम की पूजा होती है. नवरात्रि का समापन कन्याओं को हलवा पूड़ी के भोग के साथ किया जाता है. वहीं, राम नवमी के लिए श्रद्धालु गंगा में स्नान करते हैं.

राम नवमी क्या है ram navami kya hai – What is Rama Navami in Hindi

हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि और पुष्य नक्षत्र पर रामनवमी का त्योहार मनाया जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इसी तिथि पर भगवान विष्णु के सातवें अवतार श्रीराम का जन्म अयोध्या में राजा दशरथ के महल में हुआ था।

इसे राम नवमी के नाम से जाना जाता है। यह हिन्दू धर्म का एक पावन त्योहार है। इस पर्व को भगवान श्रीराम को समर्पित किया गया है। मान्यता है कि इस दिन ही मर्यादा पुरुषोत्त्म श्रीराम का जन्म हुआ था। इसी के चलते इस दिन हर घर में भगवान श्री राम की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। यह तिथि हर वर्ष चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है। इस दिन लोग श्री राम की पूजा तो करते ही हैं।

रामनवमी क्यों मनाई जाती है? – Why Ram Navami is Celebrated in Hindi?

ram navami kyu manaya jata hai

श्री राम नवमी (sri rama navami) का त्योहार पिछले कई हजार सालों से मनाया जा रहा है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार, लंकापति रावण के अत्याचारों को खत्म करने व उसकी संहार करने के लिए भगवान विष्णु ने श्री राम के रूप में धरती पर जन्म लिया था।
माना जाता है कि भगवान श्री राम का जन्म त्रेतायुग में धर्म की स्थापना के लिए हुआ था। पौराणिक कथाओं के अनुसार, अयोध्या के राजा दशरथ जिनका प्रताप 10 दिशाओं में व्याप्त रहा, उन्होंने तीन विवाह किए थे लेकिन किसी भी रानी से उन्हें संतान की प्राप्ति नहीं हुई। इस कारण वे बेहद परेशान रहा करते थे।
उन्होंने ऋषि मुनियों से जब इस बारे में विचार-विमर्श किया तो उन्होंने पुत्रेष्टि यज्ञ करवाने की सलाह दी। राजा दशरथ ने पुत्र प्राप्ति हेतु यज्ञ करने की ठानी।
राजा दशरथ ने यज्ञ के प्रसाद (खीर) को अपनी तीनों रानियों में बांट दिया। प्रसाद ग्रहण करने के कुछ महीनों बाद तीनों रानियों ने गर्भधारण किया। इसके बाद बड़ी रानी कौशल्या के गर्भ से चैत्र शुक्ल की नवमी श्री राम का जन्म हुआ। बाद में शुभ नक्षत्रों और शुभ घड़ी में महारानी कैकेयी ने भरत व तीसरी रानी सुमित्रा ने दो जुड़वां और तेजस्वी पुत्रों लक्ष्मण व शत्रुघ्न को जन्म दिया। ऐसा माना जाता है कि श्री राम के जन्म के बाद देवताओं ने फूलों से वर्षा की थी।

bhagban ram ka janm kab huwa tha? राम नवमी कब है? – Ram Navami Kab Hai?

इसबार यह शुभ तिथि 21 अप्रैल दिन बुधवार को है। इस दिन पुनर्वस नक्षत्र में कर्क लग्न में भगवान राम का जन्म हुआ था

 

रामनवमी की तिथि और शुभ मुहूर्त

राम नवमी तिथि- 21 अप्रैल 2021, बुधवार
नवमी तिथि प्रारंभ- 21 अप्रैल 2021 को रात में 12:43 बजे से
नवमी समाप्त- 22 अप्रैल 2021 को रात 12:35 बजे तक
रामनवमी पूजा का शुभ मुहूर्त- 21 अप्रैल बुधवार को सुबह 11:02 से लेकर दोपहर में 1:38 बजे तक
अवधि- 2 घंटे 36 मिनट

रामनवमी की पूजा विधि

नवमी तिथि के दिन सुबह सूर्योदय से पहले स्नान आदि करके पूजा स्थल पर प्रभु श्रीराम की मूर्ति या तस्वीर रखें. अब राम नवमी व्रत का संकल्प करें. इसके बाद भगवान श्रीराम का अक्षत, रोली, चंदन, धूप, गंध आदि से पूजन करें. इसके बाद उनको तुलसी का पत्ता और कमल का फूल अर्पित करें. फल और मिठाई का भी भोग लगाएं. आरती करें और सभी लोगों को प्रसाद का वितरण करें. आप चाहें तो इस दिन रामायण का पाठ और रामरक्षा स्त्रोत का भी पाठ कर सकते हैं.

 

रामनवमी से जुड़ी पौराणिक मान्यता

 

पौराणिक कथाओं के अनुसार लंका के राजा रावण के अत्याचार से पूरी जनता त्रस्त थी, यहां तक की देवता भी क्योंकि रावण ने ब्रह्मा जी से अमर होने का वरदान ले लिया था. रावण को उसके किए की सजा देने के लिए ही भगवान विष्णु ने प्रभु श्रीराम के रूप में जन्म लेने का फैसला किया. इधर, राजा दशरथ की तीन पत्नियां थीं लेकिन संतान एक भी नहीं. तब राजा दशरथ ने पुत्रेष्टि यज्ञ करवाया और प्रसाद में मिली खीर को तीनों रानियों को खिला दिया. कुछ समय बाद चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को रानी कौशल्या ने राम को, कैकेयी ने भरत को और सुमित्रा ने लक्ष्मण और शत्रुघ्न को जन्म दिया. तभी से चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को रामनवमी के रूप में मनाने की परंपरा शुरू हो गई.

 

 

Happy Ram Navami 2021 Wishes Images Status Quotes Photos: साथ ही अपने दोस्तों और परिजनों को राम नवमी की शुभकामनाएं भी देते हैं। तो आइए पढ़ते हैं राम नवमी के शुभकामना संदेश।

रामनवमी के अवसर पर, आप और आपके परिवार पर,
राम जी का आशीर्वाद, हमेशा बना रहे
रामनवमी की आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएं।


नमन है उस मां के चरण में,

हम हैं उस मां के चरणों की धूल,

आओ मिलकर मां को चढ़ाएं श्रद्धा के फूल।।
Happy Ram Navami 2021


राम जी की ज्योति से नूर मिलता है,

सबके दिलों को सूरुर मिलता है,

जो भी जाता है राम के द्वार,

कुछ न कुछ जरुर मिलता है,

Happy Ram navmi!
——————


आज प्रभु राम ने लिया था अवतार, जैसे संत सौम्‍य है रामजी,
वैसे ही आपका जीवन भी मंगलमय हो, राम नवमी मुबारक हो!
—————-


राम जिनका नाम है, अयोध्या जिनका धाम है,
ऐसे हैं रघुनंदन आपको और आपके परिवार को राम नवमी की हार्दिक शुभकामनाएं!


राम नाम का फल है मीठा, कोई चख देख ले!
खुल जाते हैं भाग, कोई पुकार के देख ले!


गुणवान तुम, बलवान तुम,
भक्तों को देते हो वरदान तुम,
भगवान तुम, पालनहार तुम,
मुश्किल को कर देते आसान तुम।
राम नवमी की हार्दिक शुभकामनाएं


राम जी की निकली सवारी,
राम जी की लीला है न्यारी-न्यारी,
एक तरफ लक्ष्मण एक तरफ सीता
बीच में जगत के पालनहारी।
-रामनवमी की शुभकामनाएं!