पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का जीवन परिचय | Mamata Banerjee Biography in Hindi

Mamata Banerjee Biography in Hindi
Mamata Banerjee Biography in Hindi

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का जीवन परिचय (Mamata Banerjee Biography, net worth in Hindi)

ममता बनर्जी भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल की वर्तमान मुख्यमंत्री एवं राजनैतिक दल तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख हैं। उनके अनुयायियों उन्हें दीदी (बड़ी बहन) के नाम से संबोधित करते हैं। उनका जन्म कोलकाता में एक मध्यम वर्ग के परिवार में हुआ। कॉलेज से ही उन्होंने सक्रिय राजनीति में प्रवेश किया।

Mamata Banerjee Biography in Hindi
Mamata Banerjee Biography in Hindi

कौन है  ममता बनर्जी ? kaun hai Mamata Banerjee?

1984 में जाधवपुर से अपना पहला लोकसभा चुनाव जीतकर वे अपनी युवावस्था में कांग्रेस में शामिल हो गईं, उसी सीट को 1989 में उन्होंने खो दिया था और 1991 में फिर से जीत हासिल की। 2009 के आम चुनावों तक उन्होंने सीट को बरकरार रखा। उन्होंने 1997 में अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की स्थापना की और दो बार रेल मंत्री बनीं।

एनडीए और यूपीए दोनों के साथ गठजोड़ के बाद नंदीग्राम और सिंगूर आंदोलनों के दौरान बनर्जी की प्रमुखता और भी बढ़ गई। अंत में, वे 2011 में और 2016 में भी अधिक बहुमत के साथ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री चुनी गईं।

Mamata Banerjee Biography in Hindi

जन्म: : जनवरी 5, 1955

भारत की रेल मंत्री : 22 मई 2009 – 19 मई 2011

क्र. . key points Information
1. पूरा नाम (Full Name) ममता बनर्जी
2. अन्य नाम (Other Name) दीदी
3. पेशा (Profession) भारतीय राजनेता
4. राजनीतिक पार्टी (Political Party) भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस एवं ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस All India Trinamool Congress
5. राजनीतिक पार्टी का चिन्ह (Political Party Sign) पंजा, एवं जोरा घास फूल
6. जन्म दिवस (Birth Date) 5 जनवरी 1955
7. उम्र (Age) 66 साल
8. जन्म स्थान (Birth Place) कोलकाता, पश्चिम बंगाल, भारत
9. राष्ट्रीयता (Nationality) भारतीय
10. गृहनगर (Hometown) कोलकाता, पश्चिम बंगाल, भारत
11. धर्म (Religion) हिन्दू
12. जाति (Caste) ब्राह्मण
13. पसंद (Hobbies) वाकिंग एवं पेंटिंग करना
14. पसंदीदा पास टाइम (Favourite Pastime) पढ़ना, लिखना और संगीत सुनना आदि
15. वैवाहिक स्थिति (Marital Status) अविवाहित
16. नेट वर्थ (Net Worth) ₹15.84 LAKHS
17. कद (Height) 5 फुट, 4 इंच
18. वजन (Weight) 59 किलोग्राम
19. आंखों का रंग (Eye Colour) हेज़ल ब्राउन
20. बालों का रंग (Hair Colour) साल्ट एवं पेपर
21. राशि (Zodiac Sign) मकर राशि
22 शिक्षा (Education) जोगमाया देवी कॉलेज से बीए , श्री शिक्षायत कॉलेज से इस्लामी इतिहास में एमए और जोगेश चन्द्र चौधरी लॉ कॉलेज, कोलकाता से कानून में डिग्री।
23 उनके द्वारा संभाले गये महत्वपूर्ण पद पश्चिम बंगाल की8वीं मुख्यमंत्री, रेल मंत्री, कोलकाता के लिए संसद सदस्य, जादवपुर के लिए संसद सदस्य, पश्चिम बंगाल विधानसभा सदस्य।
24 व्यवसाय राजनीति और सामाजिक कार्य
25 शिक्षा (Education) जोगमाया देवी कॉलेज से बीए , श्री शिक्षायत कॉलेज से इस्लामी इतिहास में एमए और जोगेश चन्द्र चौधरी लॉ कॉलेज, कोलकाता से कानून में डिग्री।

ममता बनर्जी का परिवार (Mamata Banerjee Family members)

26 पिता का नाम (Father’s Name) प्रोमिलेस्वर बनर्जी
27 माता का नाम (Mother’s Name) गायेत्री देवी
28 भाई का नाम (Brother’s Name) अमित बनर्जी, अजीत बनर्जी, काली बनर्जी, बबन बनर्जी, गणेश बनर्जी और समीर बनर्जी
29 बहन का नाम (Sister’s Name) कोई नहीं है.

 

ममता बनर्जी का राजनैतिक सफर | Mamta Banerjee political journey In Hindi

S.N Year Information
1 1976 – 1980 कलकत्ता दक्षिण की जिला कांग्रेस कमेटी (इंदिरा) की सचिव
2 1984 8वीं लोकसभा की सदस्य के रूप में चुनी गईं। अखिल भारतीय युवा कांग्रेस (आई) की महासचिव भी बनीं।
3 1985-1987 अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों की कल्याण समिति की सदस्य
4 1987-1988 मानव संसाधन विकास मंत्रालय की परामर्श समिति, अखिल भारतीय युवा कांग्रेस की राष्ट्रीय परिषद (आई), गृह मंत्रालय पर सलाहकार समितिकी सदस्य
5 1988 कांग्रेस संसदीय दल की कार्यकारी समिति की सदस्य
6 1989 राज्य की प्रदेश कांग्रेस कमेटी की कार्यकारी समिति की सदस्य
7 1990 पश्चिम बंगाल की युवा कांग्रेस अध्यक्षा
8 1991 10वीं लोकसभा की सदस्य (लोकसभा के लिए उनका दूसरा चुनाव)
9 1991-1993  युवा मामले और खेल विभाग, मानव संसाधन विकास, महिला एवं बाल विकास की राज्य मंत्री
10 1993-1996 गृह मामलों पर समिति की सदस्य
11 1995-1996 लोक लेखा समिति की सदस्य, गृह मंत्रालय की सलाहकार समिति की सदस्य
12 1996 11वीं लोकसभा की सदस्य के रूप में चुने गईं (तीसरी बार)
13 1996-1997 गृह मामलों पर गृह मंत्रालय की परामर्श समिति की सदस्य
14 1997 अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की स्थापना की और इसकी अध्यक्षा बनीं
15 1998 12वीं लोक सभा (चौथी बार) की सदस्य के रूप में फिर से निर्वाचित
16 1998 – 1999 रेलवे समिति की अध्यक्षा, गृह मंत्रालय की सलाहकार समिति की सदस्य, सामान्य प्रयोजन समिति की सदस्य
17 1999 13वीं लोकसभा की (पांचवीं बार) सदस्य के रूप में चुनी गईं; सामान्य प्रयोजन समिति की सदस्य के रूप में नियुक्त; लोकसभा में अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस कीराजनेत्री
18 13 अक्टूबर 1999-16 मार्च 2001 रेलवे की केंद्रीय कैबिनेट मंत्री
19 2001-2003 उद्योग मंत्रालय की सलाहकार समिति की सदस्य
20 8 सितंबर 2003-8 जनवरी 2004 केंद्रीय कैबिनेट मंत्री लेकिन बिना किसी पोर्टफोलियो के
21 9 जनवरी 2004-मई 2004 कोयला और खानों की केंद्रीय कैबिनेट मंत्रीs
22 2004 14वीं लोकसभा की सदस्य के रूप में छठी बारचुनी गईं। कानून एवं न्याय, लोक शिकायत और कार्मिक पर समिति की सदस्य भी बनीं।
23 5 अगस्त 2006 गृह मामलों की समिति की सदस्य
24 2009 15वीं लोकसभा की सदस्य के रूप में चुनी गईं (सातवींबार)
25 31 मई 2009-जुलाई 2011 जुलाई 2011: रेलवे के लिए केंद्रीय कैबिनेट मंत्री; संसद की लोकसभा मंं अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस कीराजनेत्री
26 9 अक्टूबर 2011 15वीं लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया
27 20 मई 2011 पश्चिम बंगाल की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं।
28 19 मई 2016 वह लगातार दूसरी बार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बनीं।

 

पूर्व इतिहास
1970 जोगमाया देवी कॉलेज में पढ़ते समय उन्होंने छत्र परिषद की स्थापना की। वह कांग्रेस (आई) का छात्र-विंग था। उन्होंने सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया के डेमोक्रेटिक छात्र संघ को हराया।

ममता बनर्जी की गतिविधियां और उपलब्धियां

1997 में कांग्रेस से अलग होने के बाद ममता बनर्जी ने सफलतापूर्वक एक नई पार्टी का गठन किया। नई पार्टी, अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस बाद में सीपीआई (एम) के नेतृत्व में पश्चिम बंगाल में प्रमुख विपक्षी दल बन गई।

2002 में, रेलमंत्री बनने के बाद, उन्होंने नई ट्रेनों का प्रस्ताव दिया, कुछ एक्सप्रेस ट्रेन सेवाओं का विस्तार किया, पर्यटन विकसित करने के उद्देश्य से कुछ ट्रेनों की आवृत्ति में वृद्धि की और भारतीय रेलवे खानपान प्रबंध और पर्यटन निगम का प्रस्ताव भी दिया।

बुद्धदेव भट्टाचार्य की अगुआई वाली वाम मोर्चा सरकार द्वारा पश्चिम बंगाल में औद्योगिकीकरण के लिए किसानों और कृषिविशेषज्ञों के जबरन भूमि अधिग्रहण के खिलाफ 20 अक्टूबर 2005 को उन्होंने सक्रिय रूप से विरोध किया।

उन्होंने 31 मई 2009 से 19 जुलाई 2011 तक रेलवे मंत्री के इनके दूसरे कार्यकाल के दौरान कई नान-स्टॉप टूरंटो एक्सप्रेस ट्रेनों की शुरुआत की जो प्रमुख शहरों को अन्य यात्री गाड़ियों और महिला-विशेष ट्रेनों के माध्यम से आपस में जोड़ती हैं।

अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और एसयूसीआई के गठबंधन ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2011 में 227 सीटों (टीएमसी -184, कांग्रेस -42, एसयूसीआई -1) पर जीत दर्ज की, जिसके परिणामस्वरूप वाम मोर्चा की हार हुई।

20 मई 2011 को वह बंगाल की पहली महिला मुख्यमंत्री बन गईं और वाम मोर्चा सरकार के 34 वर्षों के कार्यकाल को मात दी।

ममता बनर्जी के प्रमुख कार्य |Mamata Banerjee work List West Bengal

ममता बनर्जी ने कांग्रेस पार्टी को छोड़ने के बाद खुद की राजनैतिक पार्टी आल इंडिया तृणमूल कांग्रेस का गठन किया फिर अपनी पार्टी के साथ ममता ने टाटा मोटर्स के द्वारा लगाए गए कारखानों का जमकर विरोध किया। टाटा मोटर्स को सरकार द्वारा दी गई 10000 एकड़ जमीन के प्रस्ताव का सड़को पर आ कर विरोध किया अपने रेल मंत्री के कार्यकाल के दौरान ममता ने पर्यटन विकास के लिए इंडियन रेल्वे केटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन (आई.आर.सी.टी.सी.) की शुरुआत की.

बंगाली में ममता बनर्जी की पुस्तकें

  • उपलब्धि
  • मां-माटी-मानुष
  • जनतार दरबरे
  • मानविक
  • मातृभूमि
  • अनुभूति
  • तृणमूल
  • जनमायनी
  • अशुबो शंकेत
  • जागो बांग्ला
  • गणोतंत्र लज्जा
  • एंडोलानेर कथा

अंग्रेजी में ममता बनर्जी द्वारा किताबें

  • स्माइल (मुस्कान)
  • स्लॉटर ऑफ डेमोक्रेसी (लोकतंत्र की हत्या)
  • स्ट्रगल ऑफ एक्सिसटेंस (अस्तित्व का संघर्ष)
  • डार्क हॉरिजोन (गहरा क्षितिज)

ममता बनर्जी द्वारा जीते गये पुरस्कार

2012 में टाइम पत्रिका ने उनका दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में से एक के रूप में उल्लेख किया। ब्लूमबर्ग मार्केट्स पत्रिका ने उन्हें सितंबर 2012 में “वित्त की दुनिया में 50 सबसे प्रभावशाली लोगों” में से एक के रूप में चिह्नित किया।

रोचक तथ्‍य

ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं। उन्हें लोकप्रिय रूप से दीदी के नाम से जाना जाता है, जिसका अर्थ है बड़ी बहन। इन्होंने इतिहास में ऑनर्स डिग्री, इस्लामी इतिहास में मास्टर डिग्री, साथ ही साथ शिक्षा और कानून में भी डिग्री प्राप्त की है। वे कविताएं भी लिखती हैं और उन्होंने लगभग 300 पेंटिंग बेची है।

About The Author

3 Comments

Leave a Reply