आज है हरिबोधिनी एकादशी(Haribodhini ekadashi): हो रहा है तुलसी और दामोदर का विवाह

haribodhani ekadashi-tulsi vivah
haribodhani ekadashi-tulsi vivah

haribodhini ekadashi 2023 – हरिबोधिनी एकादशी: हो रहा है तुलसी और दामोदर का विवाह

haribodhani ekadashi-tulsi vivah
haribodhani ekadashi-tulsi vivah

Haribodhini ekadashi 2023 :कार्तिक शुक्ल एकादशी के दिन औषधीय गुणों से भरपूर तुलसी की पूजा कर आज हरिबोधिनी एकादशी का त्योहार मनाया जा रहा है।

हरिबोधिनी एकादशी के दिन भगवान दामोदर (विष्णु) और तुलसी का विवाह(Tulasi vivaah) मनाने और विशेष पूजा करने की वैदिक परंपरा है। आषाढ़ शुक्ल एकादशी यानि हरिशयनी एकादशी, क्षीरसागर में शयन किये हुए विष्णु आज जागते हैं, इस एकादशी को हरिबोधिनी या प्रबोधिनी एकादशी भी कहा जाता है।

एक वर्ष में 24 एकादशियाँ होती हैं और मलमास वाले वर्ष में भी 26 एकादशियाँ होती हैं। लेकिन उन सभी एकादशियों की तुलना में इन दोनों एकादशियों का विशेष महत्व है और इनमें शास्त्रीय विधि-विधान से व्रत करने की परंपरा रही है। इस प्रकार इन दोनों एकादशियों का विशेष महत्व विष्णु की दैनन्दिनी की भूमिका देखी जाती है।

सनातन धर्म में विष्णु को जगन्नियंत परब्रह्म परमेश्वर के रूप में पूजने की परंपरा है, जो इस प्राणी जगत की रक्षा और भरण-पोषण करते हैं। और पृथ्वी पर रहने वाले हम मनुष्यों में भी एक वर्ष की अवधि को देवताओं की एक दिन की अवधि मानने की प्रथा है।

सामान्यतः सूर्य के दक्षिण की ओर उतरते ही देवताओं की रात्रि के समय की चर्चा विभिन्न धार्मिक ग्रंथों में मिलती है। इन पौराणिक मान्यताओं और कथाओं के आधार पर इस एकादशी का महत्व इस बात से भी समझा जा सकता है कि आषाढ़ माह की बड़ी एकादशी के दिन विष्णु के क्षीर सागर में जाने और उस दिन निद्रा के बिना जागने की कथा है। कार्तिक शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली बड़ी एकादशियों का उल्लेख विभिन्न धार्मिक ग्रंथों में मिलता है।

तुलसी एक ऐसा पौधा है जिसे हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले हर व्यक्ति के घर में तुलसी मठ बनाकर सम्मानपूर्वक संरक्षित और पोषित किया जाता है। इन दोनों एकादशियों पर तुलसी भी बांधी जाती है।

तुलसी के पौधे में एक प्रकार का तेल होता है, जो तेल वातावरण में आसानी से घुल जाता है। यह घर के वातावरण को प्रदूषण से बचाता है। यह भी माना जाता है कि जहां भी और जब भी तुलसी रहती हैं और उनकी पूजा की जाती है, वहां रिद्धिसिद्धि का वास होता है।

इस प्रकार धार्मिक एवं वैज्ञानिक आधार पर तुलसी का विशेष महत्व है। प्रत्येक हिंदू के लिए असर की थुले एकादशी के दिन अपने घर में तुलसी के पौधे लगाने की भी प्रथा है और कार्तिक की थुले एकादशी के दिन तुलसी विवाह की रस्म पूरी की जाती है।

स्कंदपुराण में वर्णित कथा के अनुसार जलंधर की पत्नी वृंदा का सतीत्व ही उसकी अमरता का आधार था। सृष्टि की भलाई के लिए विष्णु को वृंदा का सतीत्व नष्ट करना पड़ा। तभी जलंधर का वध संभव हो सका। जब वृंदा को पता चला कि विष्णु ने उसके पति के भेष में रूप बदलकर उसका सतीत्व नष्ट कर दिया है तो उसके क्रोध की सीमा नहीं रही और उसने क्रोध में आकर विष्णु को श्राप दे दिया।

तब विष्णु पत्थर बन गये और शालिग्राम के रूप में अवतरित हुए। इस तरह वृंदा के श्राप से मुक्ति पाने के लिए विष्णु को शालिग्राम रूप में तुलसी से विवाह करना पड़ा। शास्त्रीय मान्यता है कि यदि किसी दम्पति को पुत्री नहीं होती है तो वे जीवन में एक बार आषाढ़ की एकादशी को अपने पिछवाड़े में तुलसी मठ बनवाते हैं, तुलसी का पौधा लगाते हैं, चार महीने तक नियमित रूप से पूजा करते हैं और बड़े विवाह कर लेते हैं। कार्तिक मास की एकादशी को उन्हें कन्यादान का पुण्य मिलेगा और पुत्र की प्राप्ति होगी।

इन दोनों एकादशियों पर नेपाल के विभिन्न तीर्थस्थलों, मंदिरों और मठों में मेले लगते हैं। इसी तरह छोटी नदियों, तालाबों और झीलों में भी नहाने वालों की भीड़ लगी रहती है. आषाढ़ में पड़ने वाली एकादशी के दिन से शुरू करके चार महीने तक केवल एक कप भोजन करके चातुर्मास व्रत करने की प्रथा है। चातुर्मास की पूरी अवधि में महात्म्य और पुराणों की कथाएँ सुनने की भी व्यवस्था है।

कुछ धार्मिक हस्तियों ने अपने घरों में ही कहानियाँ सुनने की व्यवस्था की है। महान विद्वान, संत, महंत, योगी और तपस्वी इस अवधि के दौरान जब भी संभव हो एक साथ बैठते हैं और अपनी आध्यात्मिक शिक्षा देते हैं।

चातुर्मास के दौरान कुछ तीर्थस्थलों को छोड़कर अन्य तीर्थस्थलों की यात्रा भी बंद रहती है। इस दौरान वृन्दावन, बाबाधाम, बद्रीनाथ, मुक्तिनाथ, गोसाईंकुंड, दूधकुंड आदि की तीर्थयात्रा की भी परंपरा है। कुल मिलाकर चतुर्मास काल का आध्यात्मिक और धार्मिक दृष्टि से बहुत महत्व है।

घाटी के चार नारायण, बुधनीलकंठ के साथ-साथ देशभर के नारायण मंदिरों में आज भक्तों की विशेष भीड़ उमड़ती है। धार्मिक मान्यता है कि आज से लेकर मार्गशीर्ष कृष्ण पंचमी के दिन तक तुलसी हवन करने के लिए इंतजार नहीं करना चाहिए। इसके बाद केवल हवन (होम) ज्यूर वाले दिन ही तुलसी पूजा करने का विधान है। इस प्रकार तुलसी पूजा के चार महीने समाप्त हो जाते हैं।

तुलसी का महत्व-Tulasi vivaah

तुलसी की पत्तियां, तना या फूल का रस सर्दी और मलेरिया की दवा है। इस रस को शरीर पर लगाकर सोने से मच्छर नहीं काटेंगे। जिस स्थान पर तुलसी का मठ है उस स्थान के आसपास जहरीले सांप भी नहीं आते। मठ के चारों ओर चलने वाली हवा जहरीले कीटाणुओं को नष्ट कर देती है। तुलसी पूरे शरद ऋतु में सभी प्राणियों के लिए एक महान औषधि मानी जाती है।

मानव शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए तुलसी से बनी चाय उपयुक्त मानी जाती है। नारादेवी आयुर्वेद अस्पताल के प्रमुख डॉ. श्यामबाबू यादव का कहना है कि कोरोना और अन्य वायरस से बचने के लिए तुलसी की चाय का नियमित सेवन फायदेमंद हो सकता है।

ऐसा माना जाता है कि कार्तिक माह में तुलसी की माला पहनने और विष्णु को 100,000 तुलसी के पत्ते चढ़ाने से मनोकामना पूरी होती है। जैसा कि गरुड़ पुराण में बताया गया है, इस महीने में भगवान विष्णु को एक तुलसी का पत्ता चढ़ाने से 10,000 गायों को दान करने के बराबर फल मिलता है।

आजकल भगवान विष्णु की मूर्ति को रथ पर ले जाने की भी परंपरा है। रात्रि में शंख, घंटियाँ और नगाड़े बजाकर विष्णु को जगाया जाता है कि ‘गोविंदा जागो, तुम सोओ, जग सोये, तुम जागो, जग जागे।’ इसके प्रतीक के रूप में शास्त्रीय मान्यता है कि इसका उपयोग मनुष्य की पांच इंद्रियों, पांच कर्म इंद्रियों और मन पर विजय पाने के लिए किया जाता है, ऐसा धर्मशास्त्री प्रोफेसर डॉ. रामचन्द्र गौतम के अनुसार कहा जाता है।

किसान गन्ने के पौधे को मठ में गाड़ देते हैं। चूंकि इस दिन कोई भोजन नहीं खाया जाता है, इसलिए गन्ना, पिंडालु और जंगली रतालू के साथ फल खाया जाता है। धार्मिक मान्यता है कि इस प्रकार व्रत करने से पाप नष्ट होंगे और पुण्य बढ़ेगा तथा मोक्ष की प्राप्ति होगी। ऐसा माना जाता है कि आज की एकादशी व्रत, जिसे बड़ी एकादशी भी कहा जाता है, एक हजार अश्वमेध यज्ञ और राजसूय यज्ञ करने के बराबर है।

नेपाल पंचांग निर्णायक विकास समिति के सदस्य और नेपाल पंचांग निर्णायक विकास समिति के सदस्य प्रोफेसर डॉ. देवमणि भट्टराई कहते हैं कि कार्तिक माह में स्नान, दान, जप और होम करने से फल मिलता है और कष्टों से मुक्ति मिलती है। सौ जन्मों के पाप.

परंपरा है कि आषाढ़ शुक्ल एकादशी से कार्तिक शुक्ल एकादशी तक चार महीनों के दौरान विष्णु क्षीर सागर में शयन करते हैं, इसलिए विवाह आदि शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं। इस दौरान बाढ़, भूस्खलन और सांप जैसे जीवों के डर से यात्रा न करना शुभ माना जाता है।

आज, काठमांडू घाटी में चार नारायण, भक्तपुर में चंगुनारायण, ललितपुर में विशंगखुनारायण, काठमांडू में शेष नारायण और काठमांडू में इचांगुनारायण में विशेष मेले आयोजित किए जाते हैं। जो लोग यहां नहीं जा सकते, उनके लिए यह माना जाता है कि काठमांडू के उत्तरी भाग में स्थित बुधनिलकंठ नारायणस्थान की यात्रा से चार नारायणों के दर्शन और पूजा के समान फल मिलता है। आज देशभर के नारायण मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना के साथ यह त्योहार मनाया जाता है.

साल में एक दिन यानी इन दिनों इन चारों नारायण मंदिरों में कई तीर्थयात्री पूजा करने आते हैं।

About The Author

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply